Home / World / Hindi News / भारत-चीन सीमा विवाद: अजित डोभाल और वांग यी के बीच क्या हुई बातचीत – आज की बड़ी ख़बरें

भारत-चीन सीमा विवाद: अजित डोभाल और वांग यी के बीच क्या हुई बातचीत – आज की बड़ी ख़बरें

भारत के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजित डोभाल और चीनी विदेश मंत्री वांग यी ने भारत-चीन सीमा पर शांति बहाल करने और भविष्य में कोई अप्रिय घटना न हो इसको लेकर रविवार को लंबी बातचीत की थी.

Image Courtesy BBC

भारतीय विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अनुराग श्रीवास्तव ने गुरुवार को प्रेसवार्ता कर इस बातचीत का पूरा विवरण दिया.

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता के अनुसार सुरक्षा सलाहकार ने भारत-चीन वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) और इसके आस-पास के इलाक़ों को लेकर भारत का क्या नज़रिया है, इससे चीनी विदेश मंत्री को अवगत करा दिया.

समाचार एजेंसी पीटीआई के अनुसार, “विदेश मंत्रालय ने कहा कि सुरक्षा सलाहकार अजित डोभाल और चीनी विदेश मंत्री वांग यी इस बात पर सहमत हुए कि भविष्य में सीमा पर शांति भंग होने की किसी भी आशंका को ख़ारिज करने के लिए दोनों पक्षों को मिलकर काम करना चाहिए.”

भारतीय प्रवक्ता के अनुसार इस बातचीत में राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार ने चीनी विदेश मंत्री से साफ़ शब्दों में कहा कि भारत अपनी संप्रभुता और क्षेत्रीय अखंडता सुनिश्चित करने के लिए पूरी तरह प्रतिबद्ध है.

डोभाल और चीनी विदेश मंत्री की बातचीत के बाद सोमवार से दोनों देशों की सेना ने पीछे हटना शुरू कर दिया था.

नेपाल के पूर्व विदेश मंत्री और राष्ट्रीय प्रजातंत्र पार्टी के अध्यक्ष कमल थापा ने प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली को लेकर भारतीय मीडिया के रवैए की आलोचना की है.

कमल थापा ने ट्वीट करते हुए कहा है, “हमारे प्रधानमंत्री ओली के साथ कई मुद्दों पर गंभीर मतभेद हैं, इनमें विदेश संबंधों पर उनकी नीति भी शामिल है. पर पीएम ओली पर कीचड़ उछालने के भारत के कुछ मीडिया के रवैए को स्वीकार नहीं किया जा सकता. इससे नेपाल-भारत संबंध का कुछ भी भला नहीं होगा.”

पूर्व विदेश मंत्री ने ये बयान ऐसे समय दिया है जब नेपाल में प्रधानमंत्री ओली को अपनी सरकार बनाए रखने में एक मुश्किल वक़्त से गुज़रना पड़ रहा है.

पूर्व प्रधानमंत्री और पार्टी के वरिष्ठ नेता पुष्प कमल दहल प्रचंड ने भारत के विरोध में दिए गए उनके बयानों पर आपत्ति जताते हुए उनसे इस्तीफ़े की मांग की है.

इसके बाद बुधवार को पार्टी की शक्तिशाली स्टैंडिंग कमिटी की बैठक होनी थी जिसे अब शुक्रवार के लिए टाल दिया गया है.

इस बैठक को प्रधानमंत्री ओली के राजनीतिक भविष्य के लिए बहुत महत्वपूर्ण समझा जा रहा है.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज अपने निर्वाचन क्षेत्र वाराणसी में कई स्वयंसेवी संस्थाओं से जुड़े कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए कहा कि कोरोना काल में भी काशी उम्मीद और उत्साह से भरी हुई है.

उन्होंने कहा कि यह सही है कि विश्वनाथ मंदिर और कई धार्मिक स्थल बंद हैं लेकिन यह भी सच है कि इस मुश्किल समय का काशी ने डटकर मुक़ाबला किया है और यह कार्यक्रम उसी की एक कड़ी है.

पीएम ने आगे कहा कि जब यह महामारी आई, तो सभी भारत को लेकर डरे हुए थे.

उन्होंने कहा,”इतनी आबादी, इतनी चुनौतियां, बड़े-बड़े एक्सपर्ट्स निकल आए थे भारत पर सवाल खड़े करने के लिए. इसमें भी 23-24 करोड़ की आबादी वाले उत्तर प्रदेश को लेकर तो शंकाएं-आशंकाएं और भी ज्यादा थीं. लेकिन लोगों के सहयोग ने सारी आशंकों को ध्वस्त कर दिया. “

मोदी ने कहा, आज भारत में 80 करोड़ से ज्यादा लोगों को मुफ्त राशन दिया जा रहा है.

उन्होंने कहा कि कोई कल्पना भी नहीं कर सकता है कि भारत, अमेरिका से भी दोगुनी आबादी से, एक पैसा लिए बिना उनका भरण-पोषण कर रहा है: और अब तो इस योजना को नवंबर अंत तक, यानी दीपावली और छठ पूजा तक बढ़ा दिया गया है.

प्रधानमंत्री ने उम्मीद जताई कि जब स्थितियां सामान्य होंगी तो काशी में पुरानी रौनक भी उतनी ही तेजी से लौटेगी.

अंत में उन्होंने वाराणसी के लोगों से सिंगल यूज़ प्लास्टिक के इस्तेमाल को बंद करने के लिए कहा. साथ ही बनारस के लोगों से बनारसी पान खाकर थूकने की आदत को भी बदलने की अपील की.

कोरोना वायरस से एहतियात के तौर पर हाथ धोने और मास्क पहनने जैसे नियमों को भी अनदेखा नहीं करने को कहा.

कन्नड़ अभिनेता सुशील गौड़ा ने कथित तौर पर आत्महत्या कर ली है. समाचार एजेंसी पीटीआई ने पुलिस सूत्रों के हवाले से ये ख़बर देते हुए बताया है कि बुधवार को सुशील गौड़ा का शव उनके मांड्या ज़िले में स्थित उनके घर पर मिला.

पुलिस सूत्रों के अनुसार उनकी मौत की कारण अभी तक स्पष्ट नहीं है और पुलिस इस मामले में जांच कर रही है.

30 वर्षीय सुशील गौड़ा ने एक टीवी सीरियल में काम किया था और अभी उनकी एक फ़िल्म ‘सालागा’ आने वाली थी जिसमें कन्नड़ फ़िल्मों के हीरो दुनिया विजय लीड रोल निभा रहे हैं.

News Credit बीबीसी

Check Also

रेलवे देश के 50 स्टेशनों को विकसित करने के लिए उन्हें निजी हाथों में सौंपने की तैयारी में जुटा

बड़े रेलवे स्टेशनों को हवाई अड्डों की तर्ज पर विकसित किया जाएगा, सुविधा के नाम …

%d bloggers like this: