Home / World / Hindi News / बूचा के एक बेटे की दास्तां:पापा ने हाथ खड़े कर दिए थे, पर रूसियों ने गोली मार दी, तब उन्होंने मुझे आखिरी बार देखा था

बूचा के एक बेटे की दास्तां:पापा ने हाथ खड़े कर दिए थे, पर रूसियों ने गोली मार दी, तब उन्होंने मुझे आखिरी बार देखा था

बूचा के एक बेटे की दास्तां:पापा ने हाथ खड़े कर दिए थे, पर रूसियों ने गोली मार दी, तब उन्होंने मुझे आखिरी बार देखा था



बूचा के एक बेटे की दास्तां:पापा ने हाथ खड़े कर दिए थे, पर रूसियों ने गोली मार दी, तब उन्होंने मुझे आखिरी बार देखा था


Source link

Check Also

Face Care Tips: चेहरे पर हो गए है दाग तो बस बेसन में मिलाएं ये खास चीजें, होगा निखार

Face Care Tips: बारिश के बाद अक्सर फेस चिप-चिप होने लगता है। साथ ही टैनिंग …